भारतीय नौसेना अकादमी में पाठ्यक्रम के समापन समारोह का आयोजन


June 14, 2020 Facebook Twitter LinkedIn Google+ News



कोविड-19 महामारी के लिए सभी एहतियाती प्रोटोकॉल को लागू करते हुए, 13 जून 2020 को पाठ्यक्रम के समापन समारोह में भारतीय नौसेना अकादमी के 259 प्रशिक्षुओं ने पारंपरिक पासिंग आउट परेड के स्थान पर एक अनूठे आयोजन में सफेद कपड़ों में मास्क और दस्तानों के साथ हिस्सा लिया।

किसी भी सशस्त्र बल अकादमी के पीओपी को आमतौर पर माता-पिता, मेहमानों और गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में भव्यता और चमक-दमक के साथ आयोजित किया जाता है। हालांकि कोविड-19 के संकट के दौरान, समारोह को सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मनाया गया, जिसमें सभी प्रशिक्षुओं के स्वास्थ्य और सुरक्षा को सर्वोपरि महत्व दिया गया। इसलिए, लोगों के जमावड़े को रोकने के लिए, माता-पिता और मेहमानों को आमंत्रित नहीं किया गया था।

इस पाठ्यक्रम के समापन समारोह का आयोजन, 98वें भारतीय नौसेना अकादमी पाठ्यक्रम (बी.टेक), 98वें भारतीय नौसेना अकादमी पाठ्यक्रम (एमएससी), 29वें नौसेना ओरिएन्टेशन पाठ्यक्रम (विस्तारित) और 30वें नौसेना ओरिएंटेशन पाठ्यक्रम (रेगुलर) के भारतीय नौसेना, भारतीय तटरक्षक बल और मैत्रीपूर्ण देशों के नौसैनिक और कैडेटों के लिए किया गया। मित्र देशों की ओर से सफल प्रशिक्षुओं में सात प्रशिक्षु शामिल थे; श्रीलंका और म्यांमार के दो-दो प्रशिक्षु और मालदीव, तंजानिया और सेशेल्स के एक-एक।  

वाइस एडमिरल अनिल कुमार चावला, पीवीएसएम, एवीएसएम, एनएम, वीएसएम, एडीसी, फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, दक्षिणी नौसेना कमान, समारोह के समीक्षा अधिकारी, ने नौ मेधावी प्रशिक्षुओं को पदक प्रदान किया।

वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी, एवीएसएम, एनएम, कमांडेंट, भारतीय नौसेना अकादमी, संचालन अधिकारी थे। समारोह के समीक्षा अधिकारी ने अपने संबोधन में पासिंग आउट प्रशिक्षुओं को बधाई दी और उन्हें भारतीय नौसेना के ‘कर्तव्य, सम्मान और साहस’ के आधार मूल्यों को अक्षरशः आत्मसात करने की सलाह दी। उन्होंने कैडेटों को प्रोत्साहित किया कि वे आस-पास की परिस्थितियों की परवाह किए बिना लड़ाई की भावना को कायम रखें।

भारतीय नौसेना अकादमी के बीटेक कोर्स के लिए ‘प्रेसिडेंट गोल्ड मेडल’ नौसैनिक सुशील सिंह को प्रदान किया गया। नौसेना ओरिएन्टेशन पाठ्यक्रम (विस्तारित) के लिए ‘चीफ ऑफ द नेवल स्टाफ गोल्ड मेडल’ कैडेट भावी गुजराल को प्रदान किया गया। नौसेना ओरिएन्टेशन पाठ्यक्रम (रेगुलर) के लिए ‘चीफ ऑफ द नेवल स्टाफ गोल्ड मेडल’ कैडेट विपुल भारद्वाज को प्रदान किया गया। सर्वश्रेष्ठ महिला कैडेट के लिए ‘ज़मोरिन ट्रॉफी’ कैडेट रिया शर्मा को प्रदान की गई।

20 नवंबर 2019 को, भारतीय नौसेना अकादमी को भारतीय नौसेना, तटरक्षक बल और मित्र देशों की नौसेना के अधिनायकों को आकार प्रदान करते हुए 50 साल की बहुमूल्य सेवा प्रदान करने के लिए प्रेसिडेंट्स कलर से सम्मानित किया गया था। यहां तक कि 2009 में एझिमाला में वर्तमान नौसेना अकादमी की स्थापना के बाद, यह पहला मौका है जब किसी भी बैच के प्रशिक्षण का समापन औपचारिक मार्च पास्ट के बिना समाप्त हुआ, कोविड-19 महामारी की स्थिति के कारण।

जैसा कि राष्ट्र लॉकडाउन के अंतर्गत था और चरणों में बाहर निकल रहा था, आईएनए में 24 मार्च, 2020 से संशोधित प्रशिक्षण संरचना को लागू किया गया जिससे भारत सरकार, केरल सरकार और नौसेना मुख्यालय के निर्देशों के पालन को सुनिश्चित किया जा सके। प्रशिक्षण की शुरुआत ऑनलाइन असाइनमेंट के द्वारा की गई थी और बाद में क्लास रूम और परीक्षा हॉल में न्यूनतम 6 फीट की दूरी के साथ बैठने की व्यवस्था की गई।

अकादमी द्वारा अपनाए गए कड़े एहतियाती उपायों के कारण 900 से ज्यादा कैडेटों को प्रशिक्षण देने के चुनौतीपूर्ण लक्ष्य की प्राप्ति में मदद मिली है और आईएनए में कोविड-19 के शून्य मामलों के साथ बसंतकालीन सत्र 2020 सफलतापूर्वक पूरा हुआ है।

Comments