Press Note – Dehradun 16 September 2016


September 17, 2016 Facebook Twitter LinkedIn Google+ News - Information Department, Uttarakhand


मुख्यमंत्री हरीश रावत ने विधान सभा क्षेत्र धारचूला में लगभग 100 करोड रूपये की लागत की कुल 27 योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने विधान सभा क्षेत्र धारचूला में लगभग 100 करोड रूपये की लागत की कुल 27 योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। इस अवसर पर कुल 17 योजना का शिलान्यास एवं 10 कार्यों का लोकापर्ण किया गया। जिसमें 108.10 लाख की पययापौड़ी कनार मोटर मार्ग, 119.47 लागत की खोतिलाब्यास मोटर मार्ग निर्माण कार्य, 226.63 लाख की बलुवाकोट की तोक गागरा से गैरा गाॅव तक मोटर मार्ग, 263.30 लाख लागत की नारायण आश्रम मोटर मार्ग से हिमखोला तक मोटर मार्ग, 111.87 की नारायण आश्रम मोटर मार्ग के पांगू नामक स्थान पर मुख्य रोड से मंघायर मन्दिर के गेट तक सीसी मोटर मार्ग, 31.62 लाख लागत की तवाघाट नारायण आश्रम मोटर मार्ग के पांगू नामक स्थान पर मुख्य रोड से हैलीपेड तक सीसी मोटर मार्ग, 34.13 लागत की सोसा में तितिल स्यंगसा मन्दिर में मैदान, स्टोर कक्ष एवं शोचालय का निर्माण कार्य, 34.64 लाख लागत की पांगू से राजकीय इण्टर काॅलेज पांगू तक पैदलमार्ग का पुनः निर्माण एवं सीसी निर्माण कार्य, 442.80 लाख लागत की तवाघाटनारायण आश्रम मोटर मार्ग से जीआईसी होकर रिमझिमबैकूधारपांगू तन्ता गाॅव रौतों मोटर मार्ग, 352.12 लाख लागत की धारचूला में जौलजीवी मुनस्यारी मोटर मार्ग के 8 किमी में संगलतड़ नामक स्थान पर गोरी नदी पर स्पान पुल निर्माण, 1104 लाख लागत की गौरी नदी पर लुम्ती पर 105 मीटर स्पान स्टील गर्डर मोटर मार्ग (द्वितीय चरण) निर्माण, 1954.72 लाख लागत की 17.34 किमी. की होकरानामिक मोटर मार्ग निर्माण कार्य, 449.05 लाख लागत की कालिका से गुंथी तल्ला मल्ला गाॅव, मिणवा मोटर मार्ग निर्माण, 319.74 लाख लागत की चैढ़ी से घटकुना मोटर मार्ग, 331.36 लाख लागत की जिप्ती गाला से बुगदुंग मोटर मार्ग, 317.27 लाख लागत की ऐलागाड़ नदी पर लिथिंग कोट पर 70 मीटर स्पान के स्टील गर्डर सेतु निर्माण, 405.37 लाख लागत की धोली गंगा नदी पर बोन पर 70 मीटर स्पान के स्टील गर्डर पैदल सेतु निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया गया। इसके अलावा 41.40 लाख लागत की राजकीय बालिका इन्टर कालेज धारचूला में अनावासीय भवनों का निर्माण, 39.52 लाख लागत की पुलिस बल आधुनिकीकरण के योजना अन्तर्गत बलुवाकोट में टाईप2 के चार आवासों के निर्माण, 303.84 लाख लागत की रोपाड़ बाढ़ सुरक्षा कार्य, 761.52 लाख लागत की नाचनी बाढ़ सुरक्षा कार्य, 491.75 लाख लागत की मल्ला गोठी बाढ़ सुरक्षा कार्य, 441.60 लाख लागत की मल्ला बलुवाकोट बाढ़ सुरक्षा कार्य, 400.27 लाख लागत की दोबाट बाढ़ सुरक्षा कार्य, 492.02लाख लागत की जौलजीवीगौरी बाढ़ सुरक्षा कार्य, 337.37 लाख लागत की बंगापानी बाढ़ सुरक्षा कार्य एवं 119.06 लाख लागत की डोबरी बाढ़ सुरक्षा कार्य का लोकार्पण किया।

 

मुख्यमंत्री हरीश रावत कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के विकास हेतु संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ आम जन तक पहुंचे इसके लिये राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

विभिन्न योजनाओं का लाभ आम जन तक पहुंचे इसके लिये राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि हम सबको मिलकर प्रदेश के विकास में अपना योगदान देना होगा। उन्होंने सीमान्त क्षेत्रों में संचालित योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि धारचूला क्षेत्र की तीनों घाटियों में पर्यटन विकास हेतु ट्रैकिग मार्गों के निर्माण के साथ ही इन क्षेत्रों के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में अविद्युतीकृत गाॅवों तक विद्युतीकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा क्षेत्र की सुन्दरता को देखते हुए यहाॅ पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा देने हेतु होमस्टे जैसी योजना सरकार द्वारा संचालित की जा रही। इससे गाॅवों से पलायन रोकने में मदद मिलेगी वहीं स्थानीय लोगों को अपने गाॅव में रोजगार मुहैया होगा। उन्होंने कहा कि मृग विहार हटने के बाद क्षेत्र में जहाॅ एक और सड़कों का निर्माण किया जा रहा है वहीं विभिन्न विकास कार्य तेजी से गतिमान है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सीमान्त क्षेत्रों के चहुंमुखी विकास हेतु कार्य कर रही है। महिलाओं को और अधिक आत्मनिर्भर बनाने एवं उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के क्षेत्र में राज्य सरकार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि महिलाएं संगठित होकर समूहों के माध्यम से आजीविकास का कार्य करें। राज्य सरकार बेहतर कार्य करने वाली महिला स्वयं सहायता समूहों को आर्थिक सहयोग अनुदान देने का कार्य कर रही है। राज्य सरकार यहाॅ के हस्तशिल्प एवं उत्पादों को बढ़ावा देने के कार्य के साथ ही उन्हें बाजार मुहैया करा रही है। मुख्यमंत्री द्वारा अपने विधानसभा क्षेत्र के विकास हेतु की गई विभिन्न घोषणाओ के अनुरूप किये जा रहे कार्यों की भी जानकारी आम जन को दी।

 

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने रोशनाबाद, टिहरी व हल्द्वानी में संचालित होने वाले नर्सिंग कालेजों की सभी आवश्यक व्यवस्थायें 30 सितम्बर, 2016 तक पूर्ण करने के निर्देश दिये है।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने रोशनाबाद, टिहरी व हल्द्वानी में संचालित होने वाले नर्सिंग कालेजों की सभी आवश्यक व्यवस्थायें 30 सितम्बर, 2016 तक पूर्ण करने के निर्देश दिये है। उन्होंने पिथौरागढ़, अल्मोड़ा व गोपेश्वर में संचालित होने वाले नर्सिंग कालेजों के निर्माण संबंधी कार्याें को भी शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिये हैं। सचिवालय में शुक्रवार देर सायं चिकित्सा शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि जिन नर्सिंग कालेजों के भवन बनकर तैयार हो गये है, उनका उपयोग होना चाहिए। उन्होंने पिथौरागढ़, अल्मोड़ा व टिहरी नर्सिंग कालेजों, जिनके भवन तैयार हो गये है वहां पर 30 सितम्बर, 2016 तक अन्य सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिये है। अन्य काॅलेजों के निर्माण में भी शीघ्रता के निर्देश उन्होंने दिये है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने दून मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल की व्यवस्थाएं सुधारने के निर्देश देते हुए कहा कि अस्पताल की कमियां शीघ्र दूर की जाय। यहां जनता को कोई परेशानी न हो यह प्रधानचार्य व सी.एम.एस. सुनिश्चित करें। उन्होंने इसके लिये 05 करोड़ की धनराशि भी अविलम्ब स्वीकृत करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री रावत ने दून मेडिकल हाॅस्पिटल में मैनेजमेंट कमेटी के शीघ्र गठन के साथ मेडिकल काॅलेज की काउंसलिंग में भी शीघ्रता बरतने को कहा ताकि वहां पर पढ़ाई भी शीघ्र प्रारम्भ हो सके। उन्होंने अल्मोड़ा मेडिकल काॅलज के निर्माण कार्यों में भी तेजी लोने को कहा ताकि उसे भी शीघ्र संचालित किया जा सके। भगवानपुर, रूद्रपुर, पिथौरागढ़ व कोटद्वार में बनने वाले मेडिकल काॅलेजों की स्थिति की भी उन्होंने जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि इन काॅलेजों का संचालन पीपीपी मोड में किये जाने की भी संभावना तलाशी जाय। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि जहां भी 100 बेड़ के हाॅस्पिटल है, उनकी स्थिति में सुधार लाया जाय तथा वहां पर मेडिकल के कुछ कोर्स संचालित किये जाय। बैठक में मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह, सचिव डी.सैंथिल पांडियन, आर.मीनाक्षी सुन्दरम, अपर सचिव डा. पंकज पाण्डेय, एलएन पंत, निदेशक डा. आशुतोष सयाना, सीएमएस डाॅ.केके टम्टा आदि उपस्थित थे।

Comments