Press Note – Dehradun 26 September 2016


September 27, 2016 Facebook Twitter LinkedIn Google+ News - Information Department, Uttarakhand


सोमवार दिनांक 26 सितम्बर, 2016 से नगर निगम देहरादून की सीमा से लगे ग्रामीण क्षेेत्रों में भी फौगिंग का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है, जिसके अन्तर्गत सोमवार को रायपुर, आमावाला क्षेत्र में फौगिंग का कार्य किया गया है।

सोमवार दिनांक 26 सितम्बर, 2016 से नगर निगम देहरादून की सीमा से लगे ग्रामीण क्षेेत्रों में भी फौगिंग का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है, जिसके अन्तर्गत सोमवार को रायपुर, आमावाला क्षेत्र में फौगिंग का कार्य किया गया है। यह जानकारी प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ओम प्रकाश ने डेंगू नियंत्रण हेतु आयोजित बैठक में दी। ज्ञातव्य है कि देहरादून में ’’डेंगू एवं मलेरिया’’ रोग से रोकथाम एवं बचाव हेतु मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा दिये गये निर्देश के क्रम में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य द्वारा प्रतिदिन सायं 4 बजे डेंगू नियंत्रण हेतु की जा रही विभिन्न कार्यवाहियों का अनुश्रवण किया जा रहा है। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ओम प्रकाश ने बताया कि नगर निगम, देहरादून द्वारा नोडल विभाग के रूप में कार्य करते हुए जिला प्रशासन, नगर निगम देहरादून, स्वास्थ्य विभाग, सिविल डिफेन्स, रेड क्रास, आर.डब्लू.ए. के प्रतिनिधियों द्वारा आपस में समन्वय कर एक प्रभावी योजना तैयार की गई। उक्त के अतिरिक्त श्री गुरूराम राय डिग्री कालेज के छात्रों, वाल्टीयर्स, एन0सी0सी0, एन0एस0एस0 के सदस्यों द्वारा भी आई0ई0सी0 व भवनों को सैनिटाईज किये जाने की कार्यवाही नियमित रूप से नियोजित ढंग से की जा रही है। उन्होने बताया कि नगर के अंतर्गत वार्डवार पार्षद व जोनल मजिस्ट्रेट के साथ सुपरवाईजर, सिविल डिफेन्स, आशा कार्यकर्ती व स्वच्छता कर्मी की टीमें बनायी गई, जो वार्डवार कार्य की प्रगति का अनुश्रवण कर रही है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के स्तर से लगभग प्रतिदिन 200 आशा कार्यकर्तियों द्वारा वार्डवार, क्षेत्रवार व मौहल्लावार घरघर जाकर भवनों को सैनिटाईज किये जाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सोमवार 26 सितम्बर, 2016 तक नगर निगम क्षेत्र में 72421 घरों को सैनिटाईज कर दिया गया है। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ओमप्रकाश ने बताया कि उक्त सैनिटाईजेशन के अन्तर्गत पानी जमा होने के बर्तनों, टंकियों, टायरों व गड़ढ़ों आदि को चिन्ह्ति कर उन्हें खाली कराने की कार्यवाही के साथ ही साथ स्प्रे किये जाने की भी कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि नगर निगम, देहरादून स्तर पर उपलब्ध 06 बड़ी फोगिंग मशीनों को नगर के मुख्य मार्गाें पर मच्छरों की रोकथाम हेतु वार्डवार फौगिंग की कार्ववाही करायी जा रही है।

 

राज्य निर्वाचन आयुक्त सुबर्द्धन ने बताया है कि राज्य निर्वाचन आयोग, उत्तराखण्ड द्वारा जनपद हरिद्वार की जिला पंचायत प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र के लिये 21 सदस्यों एवं नगर निगम रूड़की के प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र के 01 सदस्य के लिये जिला योजना समितियों के निर्वाचन की अधिसूचना जारी कर दी गई है।

राज्य निर्वाचन आयुक्त सुबर्द्धन ने बताया है कि राज्य निर्वाचन आयोग, उत्तराखण्ड द्वारा जनपद हरिद्वार की जिला पंचायत प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र के लिये 21 सदस्यों एवं नगर निगम रूड़की के प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र के 01 सदस्य के लिये जिला योजना समितियों के निर्वाचन की अधिसूचना जारी कर दी गई है। जनपद हरिद्वार के जिला योजना समिति के जिला पंचायत का सम्पूर्ण प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र से 21 सदस्यों एवं नगर निगम रूड़की प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र से 01 सदस्य के निर्वाचन का सामान्य निर्वाचन हेतु विनिर्दिष्ट समयसारणी के अनुसार नामांकन का दिनांक 27 सितम्बर, 2016(समय पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न 4 बजे तक), नामांकन पत्रों की जांच का दिनांक 28 सितम्बर, 2016(समय पूर्वाह्न 10 बजे से कार्य समाप्ति तक), उम्मीदवारी वापस लेने का दिनांक 29 सितम्बर, 2016(समय पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न 03 बजे तक), मतदान का दिनांक 30 सितम्बर, 2016(समय पूर्वाह्न 08 बजे से अपराह्न 03 बजे तक) व मतगणना का दिनांक 30 सितम्बर, 2016(समय अपराह्न 03 बजे से कार्य की समाप्ति तक) निर्धारित किया गया है। उन्होने बताया कि अधिसूचना जारी होने की तिथि से निर्वाचन सम्पन्न होने तक संबंधित क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता प्रभावी रहेगी। इस दौरान संबधित प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्र के लिए नई योजनाओं की घोषणा नहीं की जायेगी और न ही नई योजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन किया जायेगा परन्तु पूर्व स्वीकृत एवं चालू तथा भारत सरकार द्वारा संचालितगरीबी उन्मूलन, रोजागार, आवासीय तथा कृषकों के लाभार्थ संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन में कोई प्रतिबन्ध नही होगा। इसके साथ ही वर्तमान समय में यदि जनपद हरिद्वार में जिला योजनाओं हेतु किसी प्रकार की कार्यकारी समिति कार्यरत हो तो उसके द्वारा उस किसी भी कार्य का सम्पादन नहीं किया जायेगा जो जिला योजना समिति के अधिकार तथा उसके कार्यक्षेत्र के अन्तर्गत आता है।

Comments